आओ री सखियां सारी चाल्या एसई कै दरबार, पाणी न मार दिए! गीत गाकर मांगा पीने का स्वच्छ पानी

सत्यखबर भिवानी (अमन शर्मा) – आओ री सखियां चाल्या एसई कै दरबार, पाणी न मार दिए। कुछ इसी तरह के ठैठ हरियाणवी मंगल गीत गाते हुए महम रोड़ स्थित पब्लिक हैल्थ कार्यालय में गांव कालुवास की दर्जनों महिलाएं पहुंची। महिलाओं की मधुर आवाज में मंगल गीतों के सुर सुनकर पब्लिक हैल्थ विभाग के कर्मचारी भी बाहर निकल आए और विरोध का यह तरीका देखकर हैरान रह गए। दरअसल गांव कालुवास की महिलाएं पिछले काफी अर्से से दूषित पेयजल आपूर्ति का दंश झेल रही हैं। महिलाओं ने कहा कि गांव में हो रही पीने के पानी की सप्लाई इतनी दूषित है कि उसे पीना तो दूर, नहानें भर से ही शरीर में एलर्जी हो रही है। गांव कालुवास निवासी बीडीसी नरेश के साथ पब्लिक हेल्थ कार्यालय में पहुंची महिला पंच शीला, निर्मला ने बताया कि सप्लाई में आ रहे पानी ने तो उनके घरों में लगे आरओ भी फेल कर दिए हैं। क्योंकि सप्लाई के अंदर इतना नमकीन पानी आ रहा हैं, जिसे पीना तो दूर इस्तेमाल करने से ही शरीर में खुजली होने लगती है।

महिलाओं ने बताया कि उनके गांव में कुएं का पानी खराब हो चुका है, यही वजह है कि अब ग्रामीण पीने का पानी भी खरीदकर पीने को मजबूर हो चुके हैं। महिलाओं ने बताया कि खेतों में टयूबवेलों से पीने का पानी लाकर अपनी जरूरतें पूरी कर रही हैं। महिलाओं ने बताया कि गांव में नई पेयजल लाइन डाले जाने का भी प्रावधान किया गया था, लेकिन रेलवे क्रासिंग के नीचे लाइन डालने को लेकर मामला अटका हुआ है। महिलाओं ने पब्लिक हैल्थ कार्यालय के बाहर भी जमकर बवाल काटा। वहीं कार्यालय में कार्यकारी अभियंता नहीं मिलने पर भी महिलाओं ने अपनी नाराजगी जताने के लिए उनके कार्यालय में कुर्सियों पर बैठकर ही मंगल गीत गाने शुरू कर दिए।

महिलाओं ने कहा हाम बाना कौनी लैके आरी पाणी मांगण आरी सां
कालुवास की महिलाएं जब कार्यकारी अभियंता के कार्यालय में पहुंची तो वहां पर अधिकारी की कुर्सी खाली मिली, लेकिन महिलाएं उन्हीं के दफ्तर में कुर्सियों पर जम गई और फिर मंगलगीत गाने लगी। महिलाओं ने वहां मौजूद कर्मचारियों से भी कहा कि हाम बाना लैके कौनी आरी पाणी मांगण आरी सां। इस पर कर्मचारी भी इन महिलाओं से बचते हुए नजर आए।

एसडीओ को भी सुनाई खूब खरी खोटी
करीबन पौने घंटे बाद जब मौके पर एसडीओ बलवान सिंह पहुंचे तो महिलाओं ने उन्हें घेर लिया और फिर पानी की समस्या का समाधान नहीं किए जाने पर नाराजगी जताते हुए खूब खरी खोटी सुनाई। महिलाओं ने एसडीओ को गंदे पानी की बोतल दिखाते हुए कहा कि तुम पीकर दिखाओ ये पानी। महिलाओं ने एसडीओ को एक माह का अल्टीमेटम देते हुए दूषित पानी की समस्या का समाधान किए जाने की चेतावनी दी, इसके बाद महिलाओं ने कहा कि अगर सात सौ से आठ सौ घरों के अंदर शुद्ध पानी का इंतजाम नहीं हुआ तो वे सडक़ पर आकर प्रशासन की ईंट से ईंट बजा देंगी।

रेलवे से मांगी गई है लाइन डालने के लिए मंजूरी – बलवान शर्मा
इस सम्बंध में एसडीओ बलवान शर्मा ने बताया कि गांव में पीने के पानी की दिक्कत हैं। उन्होंने बताया कि रेलवे विभाग से लाइन क्रॉसिंग के लिए मंजूरी मांगी हैं, जैसे ही मंजूरी मिलेगी काम शुरू कर दिया जाएगा। इस दौरान ग्रामीणों के लिए पीने के पानी की वैकल्पिक व्यवस्था भी कराई जाएगी।

error: Copy... Paste is not allowed...