नेहरू पार्क में हिंदी दिवस मनाया गया

सत्य खबर, जींद

नेहरू पार्क जींद में पूरे जिला जींद के हिंदी प्रेमी इकट्ठा हुए और हिंदी दिवस मनाया गया इस अवसर पर हिंदी अध्यापकों ने भारत में हिंदी क्या महत्त्व है ? इस विषय पर विचार प्रस्तुत किए इस अवसर पर हिंदी संघ के महासचिव सुशील कौशिक नेबताया गया कि 14 सितंबर 1949 को हिंदी को भारत देश की राजभाषा स्वीकार किया गया था आजादी के समय में हिंदी ही वह भाषा थी जिसने भारत को आजाद करवाने में महत्व पूर्ण भूमिका निभाई । जिला जींद के प्रधान श्री रामफल कोशिक ने बताया कि हिंदी दिवस मनाने की शुरुआत सन 1953 से की गई थी औरतब से से लेकर आज तक यह दिवस निर्बाध रुप से मनाया जा रहा है राज्य कोषाध्यक्ष श्री प्रवीण तायल ने बताया कि हिंदी भारत के भाल की बिंदी है हमें हिंदी के प्रचार प्रसार को बढ़ावा देने का प्रयास करना चाहिए । इस अवसर पर आए हिंदी प्राध्यापक देवेंद्र कौसिक ने ‘निज भाषा उन्नति यह,सब भाषा का मूल’कविता सुना कर हिंदी के महत्व को व्यक्त किया ,श्री शमशेर कौशिक ने ‘हिंदी मातृ भाषा म्हारी,ख़ुशी मना रे सां’ हरयाणवी कविता सुना कर श्रोताओं को मन्त्र मुग्ध किया। श्री हरिलाल आर्य और लालसिंह जी ने हिंदी पर अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि आज हिंदी अपने ही देश और प्रदेश में उपेक्षित सा महसूस कर रही है लोगों की मानसिकता अंग्रेजों के नक्से कदम पर गुलाम देश की पराई भाषा को अपना समझ कर गर्व अनुभव कर रही है जो सबसे बड़ी भूल है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!