शिक्षा, स्वास्थ्य व रोजगार के मुद्दे को ले कर भारतीय जनसंघ उतरेगी मैदान में

सत्यखबर गुरुग्राम (ब्यूरो रिपोर्ट) – पिछले 50 सालों से दक्षिण हरियाणा की सत्ता वर्तमान व पूर्व के नेताओ ने अपने हाथों में ले कर रखी,लेकिन यहा के लेकिन यहां के नागरिकों को कुशासन भेदभाव और अदेखि का शिकार होना पड़ा है। दक्षिण हरयाणा के पिछड़ने का सबसे बड़ा कारन यहां के नेताओं का निजी स्वार्थ और गलत नीतिया रही। ऊंचे पद पर बैठें नेताओं ने दक्षिण हरियाणा के विकास की कभी वकालत नही की।जिसके चलते आज दक्षिण हरियाणा में न तो बेहतर शिक्षा के प्रबंध है और न ही रोजगार के | यहा के नेताओ ने सिर्फ वोट की राजनीती की है, जिसे अब बर्दास्त नहीं किया जायेगा |

इसलिए भारतीय जनसंघ ने अब दक्षिण हरियाणा में चुनाव लड़ने की घोषणा की है, जिससे दक्षिण हरियाणा से मुख्यमंत्री चुना जा सके जो इस इलाके का विकास करवाने में रूचि दिखाए | बहरतीय जनसंघ हरियाणा में लोकसभा की 4 से 5 सीटों पर अपना उम्मीदवार खड़ा करेगी और विधानसभा में भी प्रत्याशी उतारेगी | जनसंघ के गुरुग्राम लोकसभा से उम्मीदवार प्रवीण यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर हमला करते हुए कहा की पार्टी ने संघ की नीतियों को तो अपना लिया लेकिन काम नहीं किया | राम मंदिर का मुद्दा हो या फिर अन्य मुद्दे सभी निचे छोड़ दिए है | इसी लिए जनसंघ को मैदान में उतरना पड़ा है|

error: Copy... Paste is not allowed...