सफीदों मार्केट कमेटी के अधिकारी चावल व्यापारियों से मिलकर कर रहे गोलमाल

सत्यख़बर, सफीदो- 
सफीदों मार्केट कमेटी के अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत से सरकार को लाखों रुपए का चूना लग रहा है । अधिकारियों की शह पर बिना किसी परमिशन के चावल मिलिंग का काम चल रहा है। मार्केट कमेटी के अधिकारी सभी नियमों को ताक पर रखकर व्यापारियों से लाखों रुपए डकार रहे हैं।
ऐसा ही एक मामला तब सामने आया जब हॉट रोड पर मौजूद एक राइस मिल पर चावल मिलिंग की बात मार्केट कमेटी के अधिकारियों के सामने आई ।अधिकारियों द्वारा राइस मिल पर छापा मारा गया तो पाया गया कि राइस मिल पर मिलिंग करवाने वाली फर्म के पास ना तो मार्केट कमेटी सफीदों से मिलिंग का लाइसेंस लिया गया है न ही मार्किट कमेटी को इसकी जानकारी दी गयी है।
बताया जा रहा है कि मार्केट कमेटी के अधिकारियों ने चावल मिलिंग करने वाली फर्म से लाखों रुपए लेकर सांठगांठ कर मामले को रफा-दफा कर दिया। इसके साथ ही बिना किसी लाइसेंस के उक्त फर्म को काम करने की इजाजत दे दी।
बताया यह भी जा रहा है कि उक्त फर्म द्वारा सफीदों अनाज मंडी से ही धान की खरीद की जा रही है और यह खरीद बाहर की किसी फर्म के नाम की जा रही है। जबकि इसे मिलिंग के लिए हॉट रोड़ स्थित राइस मिल में ले जाया जा रहा है।
वह इस मामले में मार्केट कमेटी के अधिकारियों का कहना है कि उक्त फर्म द्वारा कार्यालय में लाइसेंस के लिए आवेदन कर दिया है। बड़ी बात यह है कि भले ही फर्म द्वारा लाइसेंस के लिए आवेदन किया गया हो लेकिन लाइसेंस मिलने से पहले ही उसे काम करने की इजाजत दे देना और शिकायत मिलने के बाद फर्म द्वारा उड़ाई जा रही नियमों धज्जियो पर मिट्टी डाल देना कहीं न कहीं मार्किट कमेटी के काले कारनामो की कच्चा चिठा खोलता है।
error: Copy... Paste is not allowed...