हरियाणा खादी ग्रामोद्योग की चेयरपर्सन ने किया जींद का दौरा

सत्य खबर, जींद : 

हरियाणा खादी ग्रामोद्योग की चेयरपर्सन गार्गी कक्कड ने जन साधारण से अपील की है कि वे प्रदेश व देश हित में सप्ताह में एक दिन खादी अवश्य पहने और स्वदेशी को बढ़ावा दें। ग्रामोद्योग की चेयरपर्सन वीरवार को जींद में लघु औद्योगिक ईकाइयों के निरीक्षण के  दौरान हांसी रोड़ स्थित सरस्वती खादी ग्रामोद्योग में महिला शिल्पकारों/कामगारों से बातचीत कर रही थी। हरियाणा खादी ग्रामोद्योग की चेयरपर्सन ने महिलाओं का आह्वन किया कि वे लघु उद्योग स्थापित कर अपने परिवार के आर्थिक उत्थान के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि खादी ग्रामोद्योग द्वारा लघु औद्योगिक ईकाइयां स्थापित करने के लिए प्रेरक ऋण एवं अनुदान उपलब्ध करवाया जाता है। इसमें महिलाओं को, अनुसूचित जाति, पिछड़े वर्ग तथा विशेष आवश्यकताओं वाले लोगों को 35 प्रतिशत तक प्रेरक सब्सीडी भी उपलब्ध करवाई जाती है। कोई भी व्यक्ति खादी ग्रामोद्योग की ईकाइयां स्थापित कर सकता है और खादी ग्रामोद्योग द्वारा 25 प्रतिशत तक अनुदान दिया जाता है। उन्होंने बताया कि खादी के रूमाल व अन्य सजावटी उत्पाद तैयार करने पर उनकी बिक्री की अपार संभावनाएं है। लोगों में खादी उत्पाद की काफी मांग हैं। इसलिए खादी शिल्पकारों को बाजार की मांग के अनुरूप अपना उत्पाद तैयार करना चाहिए। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत ग्रामोद्योग द्वारा मैनूफैक्चरिंग जैसे खादी, लकड़ी, एग्रो बेस पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। ग्रामोद्योग द्वारा 7 सौ से अधिक दस्ताकारों को इस क्षेत्र में ऋण भी दिया गया है। इसी प्रकार खादी के वस्त्र , खेस,दरी इत्यादि बनाने की तीन यूनिटें जींद में कार्यरत्त है। उन्होंने बताया कि सफीदों खादी ग्रामोद्योग समिति, महिला खादी निकेतन नगूरां तथा सरस्वती खादी ग्रामोद्योग ईकाइयां इस दिशा में सराहनीय कार्य कर रही है। इसके साथ-साथ सर्विसिंग सैक्टर में ढाबा, टैंट हाऊस, बिजली के सामान की रिपेयर जैसी लगभग 2 सौ लघु औद्योगिक ईकाइयां सफलता पूर्वक कार्य कर रही है। उन्होंने बताया कि हम किसी भी कार्यक्रम में पहुंचने वाले अतिथियों को खादी का रूमाल देकर उनका सम्मान कर सकते है। खादी ग्रामोद्योग की चेयरपर्सन ने बोर्ड द्वारा सरस्वती खादी ग्रामोद्योग का निरीक्षण करते हुए  महिला कामगारों से भी बातचीत की और स्वयं चरखा कातकर अन्य महिलाओं को प्रेरित किया। उन्होंने महिला कामगारों को सलाह दी कि वे बाजार में अपनी पैठ बनाने के लिए आधुनिक डिजाईनों को प्राथमिकता दें। इस मौके पर सरस्वती खादी ग्रामोद्योग के रघुबीर सैनी व किरण सैनी, जिला खादी ग्रामोद्योग अधिकारी छोटूराम श्योकंद भी उपस्थित रहे।

error: Copy... Paste is not allowed...